छाती के निचे दर्द क्यों होता है : chest ke niche pain kyu hota hai

छाती के नीचे दर्द क्यों होता है ? ( Why does pain occur under the chest ? )

यदि आपको भी आपके सीने में दर्द का अनुभव होता है तो  आपका चिंता करना स्वाभाविक है । क्योंकि यह आपके लिए एक गंभीर  स्वास्थ्य समस्या का संकेत हो सकता है।  लेकिन सभी प्रकार के दर्द खतरे के कारण नहीं होते हैं छाती में होने वाले दर्द के कई प्रकार होते हैं साधारण अपच  से लेकर दिल का दौरा पड़ने वाले दर्द तक सारी समस्याएं अलग-अलग प्रकार के होती है। 

Picsart 23 04 25 12 35 28 176

यदि आप समझ जाते हैं कि आपके सीने में होने वाला दर्द का कारण क्या है । तो आप एक चिकित्सक के तलाश करने में आसानी पा सकते हैं।  क्योंकि यदि आपको यह पता चल जाएगा कि कब आप को चिकित्सक के पास जाना चाहिए ।  एवं कब आपका यह दर्द घरेलू नुस्खों से ही ठीक होने लग जाएगा। 

इस लेख में हम  आपको छाती के नीचे होने वाले दर्द के विभिन्न कारणों के बारे में बताएंगे एवं इन्हें आप कैसे कम  कर सकते हैं उन तरीकों के बारे में भी बात करेंगे।

छाती के नीचे दर्द का कारण ( Pain under chest cazon : causes)

दिल से संबंधित कारण ( Heart-related causes )

छाती के नीचे होने वाले सबसे गंभीर दर्द मे से एक दिल का दौरा पढ़ना है क्योंकि यदि आप की छाती में अक्सर जकड़न एवं दबाव  महसूस  होता है तो यह दिल के दौरा पड़ने वाले दर्द की तरह है । यह दर्द गर्दन, जबड़े एवं हाथ  तथा पेट तक फैल जाता है।  यदि आपको भी इस प्रकार के दर्द का अनुभव होता है तो मेरे अनुसार आपको तुरंत डॉक्टर के पास चले जाना चाहिए क्योंकि सीने में होने वाले दर्द के कुछ कारण  हृदय समस्याओं से जुड़े हुए होते हैं।  सीने में होने वाले दर्द के कुछ संबंधित कारणों में एनजाइना, पेरिकार्डिटिस या महाधमनी विच्छेदन भी शामिल हो सकते हैं।

जठरांत्र संबंधी कारण ( Gastrointestinal causes )

पाचन तंत्र में होने वाला दर्द भी छाती  के नीचे होने वाले दर्द का एक सामान्य स्रोत होता है। एसिड रिफ्लक्स, जिसे  हम हार्टबर्न भी  कहते है।  अक्सर तब होता है जब हमारे पेट में बनने वाला एसिटिक एसिड हमारे अन्प्णाली में वापस आने लगता है   जिस कारण से छाती के नीचे दर्द पैदा होने लग जाता है एवं जलन का अनुभव होता है।  सीने में पैदा होने वाले दर्द के अन्य  मुद्दों में शामिल अल्सर  पथरी अग्नाशयशोथ, तथा गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल है।

श्वसन संबंधी कारण ( Respiratory causes )

फेफड़ों से संबंधित होने वाले स्वास्थ्य समस्याएं भी  सीने के नीचे होने वाले दर्द का अहम कारण बन सकती है । जिसमें कि हमें निमोनिया लोरियां ,एक ढह गया फेफड़ा,  जैसे अनेक प्रकार की समस्याएं होने लग जाती है जिससे कि हमारे  शरीर में होने वाला दर्द कुछ ‘ छुरा घोपने वाले दर्द’ के समान बन जाता है।  जो कि सांस लेने में तकलीफ पैदा करता है । यदि आपको भी सांस लेने में तकलीफ महसूस होती है।  तो आपको तो आपको भी तुरंत चिकित्सा के पास चले जाना चाहिए। 

मस्कुलोस्केलेटल कारण ( Musculoskeletal causes )

कभी तो हमारे सीने में होने वाला दर्द मांसपेशियों तथा हड्डी में होने वाले समस्याओं के कारण हो सकता है। जैसे कि कॉस्टोकॉन्ड्राइटिस   या एक ऐसी स्थिति होती है जिसमें की सूजन बनना चाहते शामिल है ।   कभी-कभी पसलियों को उरोस्थि से  जोड़ने वाले स्थान पर सूजन आ जाता है जिसके कारण  हमें तेज दर्द का अनुभव होता है।  तथा हमारे द्वारा इसे दिल का दौरा समझ लिया जाता है। अन्य मस्कुलोस्केलेटल समस्याएं भी होती है । जो सीने में दर्द का कारण बन सकती हैं । उनमें से कुछ  फ्रैक्चर, खिंचाव या मोच आदि शामिल हैं।

मनोवैज्ञानिक कारण (psychological reasons )

आपको यहां पर ध्यान रखने की जरूरत है । कि यदि आपके सीने में अचानक से दर्द उठ जाए तो आपको  इसके लिए चिंता या पैनिक अटैक जैसे कई मनोवैज्ञानिक मुद्दों के कारण भी हो सकता है।  सीने में दर्द होने की इन स्थित में आपको जकड़न , कसना  जैसी भावनाएं पैदा हो जाती है।  आप इस बात पर पूरा ध्यान रखिए कि यदि आपके साथ भी  कभी भी छाती के नीचे दर्द हो तो आपको पहने नहीं होना है इससे आपको ज्यादा हानि होगी आपको  स्वास्थ्य के लिए सतर्क रहना है एवं चिकित्सक से परामर्श लेते रहना है। 

छाती के नीचे दर्द के लिए उपचार के विकल्प ( Treatment options for pain under the breastbone )

छाती के नीचे होने वाले दर्द का उपचार अंतर्निहित कारण पर निर्भर करेगा।  यदि  दर्द दिल के दौरे  से संबंधित है तो आपको चिकित्सा के लिए सतर्क रहना होगा एवं चिकित्सक से समय-समय पर परामर्श लेते रहना होगा।  एवं  ज्यादा बड़ी गंभीर समस्या ना होने पर आप उसका इलाज आसानी से घर पर ही कुछ टैबलेट्स एवं  घरेलू नुस्खा से भी कर सकते हैं। 

आराम और विश्राम ( Rest and relaxation)

यदि दर्द का कारण एक मस्कुलोस्केलेटल समस्या  है।  तो आपको इससे प्रभावित क्षेत्रों को आराम देने की आवश्यकता है एवं  इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन जैसे ओवर-द-काउंटर  दर्द निवारक  टैबलेट्स को लेने की आवश्यकता है।  इससे आपके दर्द निवारण में आसानी होगी ।

आहार और जीवन शैली में परिवर्तन ( Diet and lifestyle changes )

यदि दर्द का कारण गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल है ।  तो आपको अपने आहार चले एवं जीवन शैली में बदलाव करने की बहुत आवश्यकता है।  क्योंकि इससे आपको लक्षणों को कम करने में मदद मिलेगी।  आपको मसालेदार एवं वसा युक्त भोजन को कम करना है तथा परहेज करने की कोशिश करनी है।  आपको खानपान के बाद तुरंत लेटने से बचना है । जो कि आपके शरीर में एसिड रिफ्लक्स को कम करने में मदद कर सकता है।

चिकित्सा हस्तक्षेप ( medical intervention )

यदि शरीर में होने वाला दर्द अत्यधिक गंभीर है।  एवं आपको निमोनिया तथा ढह गए फेफड़े  जैसे समस्याएं हैं तो आपको चिकित्सा हस्तक्षेप आवश्यक हो सकता है ।  इन समस्याओं में आपको और जनता रिपीट एंटीबायोटिक तथा  अत्यधिक गंभीर मामलों में सर्जरी करना आवश्यक होता है। 

Picsart 23 04 01 21 17 33 760 2

निष्कर्ष ( conclusion )

हम जानते हैं कि छाती के नीचे होने वाला दर्द आपको एक डरावना अनुभव पैदा करवा सकता है।  मगर हमें समझदारी से काम लेना है एवं यह समझना है कि यहां दर्द का कारण कुछ अन्य  सामान्य  खानपान बदलाव भी हो सकता है।  अगर आपको इस  दर्द को नजरअंदाज नहीं करना है तथा आपको इसके कारणों का पता लगाना है एवं  समय रहते इसके उपचार करने की पूर्ण कोशिश करनी है। तथा चिकित्सक  से पूर्ण परामर्श लेने की कोशिश करनी है।

Leave a Comment