नाक में खून क्यों आता है : naak se khoon kyu aata hai

नाक में खून क्यों आता है : नाक से खून का बहना तथा आना एक आम समस्या है जिससे कि हजारों लाखों लोग परेशान हैं।  हालांकि नकसीर काफी भयानक नहीं हो सकती है मगर यह काफी खतरनाक हो सकती है क्योंकि यदि समय पर इलाज न किया जाए तो अत्यधिक खून बहने से व्यक्ति को परेशानी  हो सकती है।  इस लेख में हम बात करने वाले हैं कि नाक से आने वाले खून  अर्थात नकसीर का क्या कारण होता है तथा  इसे कैसे ठीक किया जा सकता है।

Picsart 23 04 25 22 01 06 225

नकसीर के प्रकार ( types of nosebleeds )

आमतौर पर नकसीर के दो प्रकार होते हैं एंटीरियर और पोस्टीरियर ।

पूर्ववर्ती नकसीर ( internal hemorrhage )

अर्थात पूर्ववर्ती नकसीर यह तब होती है । जब  नाक के सामने उपस्थित रक्त वाहिकाएं टूटना शुरू हो जाती है तो इस प्रकार की नकसीर देखी जाती है । यह अधिक भयावह नहीं होती है यह सामान्य होती है । जिसे की आसानी से ठीक किया जा सकता है। दूसरी  और यदि हम बात करते हैं । पोस्टीरियर नकसीर के बारे में ।

पश्च रक्तस्राव ( posterior hemorrhage )

यह नाक के पिछले हिस्से से खून बहने की स्थिति होती है । जब नाक के पहले हिस्से में उपस्थित रक्त वाहिकाएं टूट जाती है । तो नाक से खून बहने लगता है इस प्रकार के नकसीर  कभी-कभी देखने को मिलती है।  समय पर चिकित्सक से परामर्श न लेने पर यह भयावह रूप धारण कर सकती है।

नकसीर के कारण (due to nosebleed)

 शुष्क हवा ( dry air )

शुष्क हवा नाक की झिल्लियों  चिड़चिड़ा तथा कमजोर कर सकती हैं।  जिससे नाक से खून निकलने का खतरा बना रहता है।

एलर्जी ( Allergies)

एलर्जी होने की प्रक्रिया में नाक में खुजली, सूजन तथा जलन जैसी समस्याएं हो सकती है जिसके कारण नाक से खून निकल सकता है

चोटें ( injuries )

नाक तथा चेहरे पर चोट लगने के कारण भी नाक में उपस्थित रक्त वाहिकाएं टूट जाती है जिसके कारण नाक से नकसीर आने लग जाती है।

दवाएं ( medicines )

यदि आप किसी बीमारी की दवा ले रहे हैं जो कि खून को पतला कर देती है । ऐसे समस्या में भी नाक से खून आने का खतरा बना रहता है।

चिकित्सीय स्थितियाँ ( Medical Conditions ) :

उच्च रक्तचाप भी नाक से नकसीर आने मे अहम भूमिका निभाता है । यदि आप किसी चिकित्सीय  परेशानी से गुजर रहे हैं। तो आपके नाक से भी खून आ सकता है।

हार्मोनल परिवर्तन ( Hormonal Changes)

इंसान के शरीर में होने वाले कुछ हार्मोन परिवर्तन जैसे कि गर्भावस्था या फिर योवन के दौरान नाक में उपस्थित झिल्ली अतिसंवेदनशील हो जाती है जिस कारण नकसीर आती है।

Picsart 23 04 29 12 04 46 130 1

हार्मोनल परिवर्तन, जैसे कि गर्भावस्था या यौवन के दौरान होने वाले परिवर्तन से नाक की झिल्ली को अधिक संवेदनशील बना सकते हैं। और नकसीर का कारण बन सकते हैं।

नकसीर को रोकने के उपाय ( ways to stop nosebleeds )

  • हवा में नमी बनाए रखने के लिए जो ह्यूमिडिफायर का उपयोग करें।
  • अपनी नाक को जोर-जोर से उड़ाने से बचना चाहिए।
  • अपनी नाक को हमेशा नाम रखें। इसके लिए खारा ना कि स्प्रे का उपयोग करें।
  • धूम्रपान करने से बचें । तथा सेकंड हैंड धुएं के संपर्क में आने से बचें।
  • अपने दोनों नाखूनों को आपस में मिलाने तथा 10 से 15 मिनट तक इन दोनों के बीच दबाव बनाए रखें।
  • नकसीर आने पर थोड़ा आगे झुके तथा मुंह से सांस ले।
  • अपने नाक के ब्रिज एरिया पर कोल्ड कंप्रेस लगाएं।
  • यदि आप रक्तस्राव 20 मिनट तक बंद नहीं होता है । तो आपको चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए । या चिकित्सा के पास जाना चाहिए ।

निष्कर्ष ( conclusion )

नकसीर एक आम समस्या है । जिसको की  आप घर पर भी ठीक कर सकते हैं।  यह विभिन्न कारणों से हो सकते हैं । देखा गया है कि अधिकांश नकसीर गंभीर नहीं होते हैं। मगर कुछ-कुछ नकसीर खतरनाक और सुविधाजनक हो सकते हैं।  आपको नकसीर को रोकने के लिए डॉक्टर से परामर्श लेना होगा। तथा उनके घरेलू उपायों के बारे में जानना होगा । जिसके कारण  नकसीर से होने वाली परेशानियों को कम किया जा सके । ताकि उनका उपचार समय पर सही तरीके से किया जा सके।

Leave a Comment